गोरखपुर लोकसभा उप चुनाव: कांग्रेस के प्रति BSP का सॉफ्ट कॉर्नर, कर सकती है सपोर्ट

सत्ताधारी दल के साथ विपक्षी दलों के लिए लिटमस टेस्ट साबित होगा। आगामी सियासी रणनीति भी बहुत हद तक इनके परिणामों पर निर्भर करेगी। इसकी एक तस्वीर इन चुनावों में दिखाई भी दे रही है। उप चुनाव में कांग्रेस के प्रति बसपा का सॉफ्ट कार्नर झलक रहा है। स्थानीय बहुजन समाजवादी पाटी (बसपा) नेताओं के मुताबिक, उनके कार्यकर्ता उप चुनाव में कांग्रेसी कैंडिडेट के लिए समर्थन जुटाने में लगे हैं।

सभी दलों की निगाहें बसपा के दलित वोट बैंक की तरफ
चूंकि उप चुनाव में बसपा ने अपना कैंडिडेट नहीं उतारा है। इसलिए सभी दलों की निगाहें पार्टी के दलित वोट बैंक की तरफ हैं। यह जिस दल की तरफ जाएगा, चुनाव में उसका पलड़ा भारी होगा। सभी दल यह चाहते भी हैं कि अघोषित तौर पर यह वोट बैंक उनकी तरफ आ जाए। इसमें कांग्रेस बाजी मारती दिखाई दे रही है। बसपा के स्थानीय नेताओं के मुताबिक, गोरखपुर में उनके कार्यकर्ता कांग्रेस के लिए जमीन तैयार करने में जुटे हैं। हालांकि, आधिकारिक तौर पर इसकी घोषणा नहीं हुई है। सियासी समीकरणों के लिहाज से यह वाजिब भी लग रहा है। क्योंकि बसपा अपने चिर प्रतिद्वंदी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और समाजवादी सपा को सपोर्ट करने से कतराती रही है।