लम्बी लड़ाई लड़ने के लिए त्याग करना पड़ता है जिसमें समाजवादी कभी पीछे नहीं होते – अखिलेश यादव

लखनऊ – यूपी में लगातार उपचुनाव में जीत से उत्साहित समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हराने के लिए यूपी में सीटों से समझौता कर सकते हैं। अखिलेश यादव ने मैनपुरी में बीजेपी के खिलाफ बिगुल फूंकते हुए कहा, ”ये लड़ाई लम्बी है इसलिए अगर उनकी पार्टी को बीएसपी से गठबंधन बनाने के लिए दो-चार सीटों का त्याग करना पड़ा तो समाजवादी पार्टी इसमें पीछे नहीं हटेगी।

हाल ही में बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने होने वाले लोकसभा चुनाव में बनने वाले गठबंधन को लेकर कहा कि था अगर सम्मानजनक सीटें नहीं मिली तो बीएसपी अकेले लड़ने के लिए भी तैयार है। जिसके बाद मैनपुरी में अखिलेश यादव ने बीजेपी को हराने के लिए सीटों से समझौता करने को तैयार हैं।

हाल ही में हुए गोरखपुर, फूलपुर, कैराना इन तीनों सीटों पर बीजेपी का कब्जा था लेकिन उपचुनाव में बीजेपी को तीनों सीटें गंवानी पड़ी जनता ने गठबंधन पर भरोसा करते हुए उपचुनाव में उनका साथ दिया। उपचुनाव में मिली सफलता से सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव काफी उत्साहित हैं। यही फॉर्मूला लोकसभा चुनाव में भी अपनाने के लिए उत्तर प्रदेश में बीएसपी, समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, आरएलडी गठबंधन पर विचार बन रहा है लेकिन सीटों को लेकर मायावती हमेशा अपनी बात पर अडिग हैं इसी को देखते हुए अखिलेश यादव ने दो-चार सीटों पर त्याग करने तैयार हो गए। जिसके बाद ये कयास लगाए जा रहे हैं कि लोकसभा चुनाव में इस बार चुनाव गठबंधन और बीजेपी में होगा।