ललितपुर में सामुहिक बलात्कार

ललितपुर में एक बेटी के साथ हुए दुष्कर्म के ख़िलाफ़ अगर आज हम सब एक साथ खड़े नहीं हुए तो बेलगाम हो चुकी क़ानून-व्यवस्था हम सबके दरवाज़े तक पहुँच जाएगी।

भाजपा सरकार ने पुलिस का राजनीतिक दुरुपयोग कर इंसाफ़ को थानों में गिरवी रख दिया है। ऐसी सरकार से न्याय की अपेक्षा बेमानी है।

थाने में गैंगरेप यूपी पुलिस के चरित्र पर बड़ा दाग

यूपी के ललितपुर में सामूहिक दुष्‍कर्म की शिकार हुई किशोरी से थाने में रेप मामले ने तूल पकड़ लिया है। पूर्व मुख्‍यमंत्री और सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव पीड़िता से मिलने के लिए ललितपुर रवाना हो गए हैं। आरोप है कि पाली थाने के एसओ तिलकधारी सरोज ने किेशोरी को बयान दर्ज करने के लिए बुलाया था।

  1. सामुहिक रेप कांड में पूरा थाना सस्पेंड

इस दौरान उसने थाना परिसर में बने अपने कमरे में किशोरी से दुष्‍कर्म किया। एसपी ने आरोपी थानाध्‍यक्ष को सस्‍पेंड कर दिया है, साथ ही पूरा थाना लाइन हाजिर कर दिया गया है। एसओ समेत चार युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है। आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस टीमें लगातार छापेमारी कर रही हैं। इस घटना में महिला सहित तीन आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं। वहीं, सस्‍पेंड किए गए थानाध्‍यक्ष समेत तीन लोग फरार हैं।