दिल्ली के बुराड़ी कांड का रहस्य में एक नया खुलासा, क्या इस कारण 11 लोगों ने की आत्महत्या?

दिल्ली – राजधानी दिल्ली के संतनगर बुराड़ी के भाटिया हाउस में 11 लोगों की संदिग्ध मौत में शुरुआत में तो इसे आत्महत्या का मामला माना जा रहा था लेकिन जांच के आगे बढ़ने पर कई और तरह के जो एंगल सामने आ रहे हैं उनमें अंधविश्वास सबसे प्रमुख है। रविवार को ही इस मामले में पुलिस को घर में बने मंदिर के पास नोटबुक बरामद हुए थे, इसमें साल 2017 से ही कुछ नोट्स लिखे जा रहे थे। पहले घर में दो रजिस्टर मिले थे जिनमें लिखा था कि फंदे पर लटकने के लिए स्टूल का इस्तेमाल करेंगे आंख बंद करेंगे और हाथ बांध लेंगे तो मोक्ष मिलेगा।

घर की बाहरी दीवार पर लगे 11 पाइपों ने इसे मामले को और पेचीदा बना दिया है। दरअसल जिस घर के अंदर 11 शव मिले थे उसी घर की बाहरी दीवार पर 11 पाइप भी मिले हैं जो कई तरह के सवाल खड़ा करते हैं। क्या परिवार अंधविश्वास में इतना विश्वास करता था कि उसने परिवार के सदस्यों के हिसाब से पाइप लगाए थे?  आखिर ये पाइप लगाए क्यों गए थे जबकि इन पाइप्स से पानी भी नहीं निकलता है और ना ही दीवार पर कोई पानी के निशान हैं।

सबसे बड़ी बात पाइप्स इस तरह लगे थे जैसे कि उनका परिवार के सदस्यों से ताल्लुक हो। 7 पाइपों का मुहं जहां नीचे की तरफ है वहीं 4 पाइपों का मुंह ऊपर की तरफ है। घर के 11 सदस्यों में 7 महिलाएं थी और 4 पुरूष थे। घर के अंदर मिले रजिस्टर में जिस तरह के मौत के तरीके सुझाए गए हैं, मौतें भी उसी तरह से हुईं हैं। यह परिवार राजस्थान के चितौड़गढ़ का रहने वाला था लेकिन 21-22 साल पहले आकर दिल्ली बस गया था। ये लोग राजपूत समाज से थे।