UPSTF ने किया Digital India के नाम पर 11 करोड़ की ठगी करने का बड़ा खुलासा

नई दिल्ली – डिजिटल इंडिया के नाम पर ठगी करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया प्रोग्राम के नाम का इस्तेमाल कर शातिरों ने एक फर्जी वेबसाइट बनाकर लाखों लोगों से ठगी की है। इस फ्राड गैंग ने न सिर्फ ई-ग्राम डिजिटल के नाम से फर्जी वेबसाइट बनाई बल्कि उसकी फैंचाइजी बनाकर देश के 1600 व्यक्तियों को बेच दी। फर्जी वेबसाइट बनाने के मास्टर माइंड के तौर पर UPSTF की टीम ने सुधांशु शुक्ला को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही पुलिस इस गैंग के बाकी मेंबर की तलाश कर रही है। आपको बता दें इस गैंग ने अभी तक 11 करोड़ की ठगी की वारदातों को अंजाम दिया है।

वेबसाइट बनाकर कैसे करते थे ठगी

फर्जी वेबसाइट गैंग ने डिजिटल इंडिया के नाम से एक वेबसाइट बनाई। इस वेबसाइट से लोगों को प्रधानमंत्री की डिजिटल इंडिया मुहिम से जोड़न की बात करते और पैसे बनाते थे। वेबसाइट को रियल की शक्ल देने के लिए प्रधानमंत्री मोदी की वीडियो और डिजिटल इंडिया के लोगो का इस्तेमाल किया गया था। लोगों को इस फर्जी वेबसाइट पर शक न हो इसलिए शातिर दिमाग ने गर्वनमेंट के लिंक्स भी लगा रखे थे। इस फर्जी वेबसाइट के मालिक ने लोगों को पेमेंट गेट, बैंकिग कोरेसपोंडेंट, आईआरसीटीसी, बस टिकट आदि की गवर्नमेंट सेवाएं मुहियां कराने का झांसा देता है। इन सभी फर्जीवाड़ों के साथ ठग सुधांशु शुक्ला ने 11 करोड़ की ठगी की वारदात को अंजाम दिया है।

UPSTF  ने कैसे किया गैंग का खुलासा

पुलिस को लगातार इस वारदात के मद्देनजर ठगी की शिकायतें मिल रही थी। ऐसे में UPSTF के एसपी प्रो. त्रिवेणी सिंह ने वेबसाइट पर अपनी नजर बना ली। हर दिन हो रहे अपडेट के साथ एक फर्जीवाड़ा सामने आता था। ठंगो के गिरोह ने वेबसाइट की डिजाइनिंग ऐसे की हुई थी की पहली बार जाकर एक आम इंसान को ठगी का ज्ञान होना थोड़ा मुश्किल है। ऐसे में UPSTF ने विशेषज्ञों से वेबसाइट के फर्जी होने का प्रूफ लिया। इसके बाद UPSTF के एसपी प्रो. त्रिवेणी सिंह को मुखबिर से ख़बर मिली। ख़बर के मुताबिक फर्जीवाड़े का मुख्य आरोपी लखनऊ आ रहा था। पुलिस की टीम ने फर्जीवाडे के मास्टर माइंड सुधांशु को मौके से गिरफ्तार कर लिया।सुधांसू के पास से एक फोन और फर्जी वेबसाइट  के दस्तावेज बरामद किए गए हैं। साथ ही आपको बता दें पुलिस पूछताछ में सुधांशु ने फर्जीवाडे की बात को स्वीकार कर अब तक 11 करोड़ की ठगी की बात कही है।