जॉनसन एंड जॉनसन बेबी पाउडर से होता है कैंसर, अगर आप बच्चों पर करते हैं इस्तेमाल तो हो जाइए सावधान

विख़्यात अमेरिकी फार्मा कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन पर अमेरिका में 32000 करोड़ रुपये का भारी जुर्माना लगाया गया है। कंपनी के खिलाफ अमेरिका के मिसौरी राज्य में कई महिलाओं ने मामला दर्ज कराया था, बताया जा रहा है कि कंपनी के पाउडर संबंधित उत्पादों के कारण गर्भाशय का कैंसर होना पाया गया है। आप अपने मासूम बच्चों को दिलो-जान से प्यार करते हैं। आपकी हर संभव कोशिश होती है कि मासूम को किसी तरह से कोई परेशानी न हो। उस मासूम के लिए हर चीज अच्छी तरह जांच-परखकर चुनते हैं। बच्चों के तेल, साबुन और पाउडर से लेकर कपड़े तक हर चीज का चुनाव करते समय सावधानी बरतते हैं।

लेकिन इतनी सावधानी के बावजूद आप अपने बच्चों के लिए कुछ ऐसा चुन लेते हैं जो उन्हें कैंसर जैसी घातक बीमारी के संपर्क में ला सकता है।आप अपने मासूम बच्चों की केयर करते हुए  जॉनसन एंड जॉनसन का तेल, पाउडर आदि प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हैं लेकिन इसी कंपनी के पाउडर में कुछ ऐसा मिला है, जिसे जानकर पर आप चौंक जाएंगे।

बताया जा रहा है कि इस कंपनी के पाउडर में गर्भाशय कैंसर का कारक होता है। इसके लिए कंपनी पर अमेरिका में 32 हजार करोड़ रुपये का हर्जाना भी लगाया गया है।बच्चों के लिए उत्पाद बनाने वाली मशहूर कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन को अमेरिका की एक अदालत ने 22 महिलाओं को 470 करोड़ डॉलर (लगभग 32,000 करोड़ रुपये) हर्जाना देने को कहा है। इन महिलाओं ने जॉनसन एंड जॉनसन के टैलकम पाउडर में एसबेस्टस होने और इसके इस्तेमाल से गर्भाशय का कैंसर होने का आरोप लगाया था। इसी मामले में फैसला सुनाते हुए मिसौरी की अदालत ने महिलाओं को हर्जाना देने को कहा है।

बता दें कि जॉनसन एंड जॉनसन पाउडर के इस्तेमाल से कैंसर होने के मामले में कई बार कंपनी पर जुर्माना लगाया जा चुका है लेकिन यह इसके लिए अब तक का सबसे बड़ा आर्थिक दंड है।इस समय कंपनी पर लगभग 9,000 मुकदमे चल रहे हैं। इनमें पाउडर के इस्तेमाल से कैंसर होने और इसमें एसबेस्टस होने के आरोप लगाए गए हैं।

अभियोजन पक्ष के वकील मार्क लैनियर ने अदालत को बताया कि कंपनी इस बात को जानती थी कि उसके टैलकम पाउडर में एसबेस्टस मिला हुआ है। इसके बावजूद उपभोक्ताओं को इसके प्रति आगाह नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि लोगों की जिंदगी को इस तरह से खतरे में नहीं डाला जा सकता है। यह सही नहीं है। करीब पांच सप्ताह तक चली सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों ने अपनी ओर से विशेषज्ञ पेश किए। हालांकि अदालत के फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कंपनी ने कहा कि मामले की सुनवाई सही तरीके से नहीं हुई है और वह फैसले को चुनौती देगी। अदालत का फैसला आने के बाद शेयर बाजार में जॉनसन एंड जॉनसन के शेयर का मूल्य गिर गया।