मुन्ना बजरंगी की पत्नी ने पुलिस पर लगाया गंभीर आरोप, जेल से बाहर निकालकर मेरे पति का फर्जी एनकांउटर करना चाहती है पुलिस

लखनऊ – जेल में बंद शार्प शूटर मुन्ना बजरंगी की पत्नी को उनके पति की मौत का डर सताने लगा है। लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस करते हुए मुन्ना बजरंगी की पत्नी ने यूपी एसटीएफ और पुलिस के उच्च अधिकारियों बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि ये लोग मेरे पति को जेल से बाहर निकालकर उनका फर्जी एनकांउटर कराना चाहते हैं। मुन्ना बजरंगी की पत्नी सीमा सिंह ने पति की जान बचाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से गुहार लगाते हुए कहा कि मेरे पति की जान को खतरा है, झांसी जिले के जेल में बंद उनके पति पर जानलेवा हमला किया गया है, मेरे पति को कुछ प्रभावशाली व्यक्तियों ने षड्यंत्र रच कर कई बार जान से मारने का प्रयास पहले भी किया और अब भी कर रहे हैं। जिस के संबंध में उनके द्वारा तमाम जिम्मेदार अधिकारियों व माननीय न्यायालय में भी शिकायत की गई, कुछ भ्रष्ट तंत्र के व्यक्ति उनके पति को व्यक्तिगत लाभ के लिए फर्जी एनकाउंटर करने का प्लान बना रहे हैं।

मुन्ना बजरंगी की पत्नी सीमा सिंह ने बताया कि बागपत जिले में बसपा के पूर्व विधायक लोकेश दीक्षित को धमकी देने के आरोप में दर्ज मुकदमे में पुलिस उनको जेल से बाहर निकालना चाहती है और फिर जेल से बाहर आते ही पुलिस उनके पति की मुठभेड़ दिखाकर हत्या करना चाहती है। मुन्ना बजरंगी के वकील विकास श्रीवास्तव ने भी बताया जेल से बाहर आने में काफी खर्चा होता है लेकिन कोर्ट इन मुकदमों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई करती है तो फिर बागपत पुलिस उन्हें बाहर निकालने के लिए क्यों दबाव बना रही है। आरोप है कि बागपत पुलिस किसी न किसी बहाने से मुन्ना बजरंगी को जेल से बाहर निकाल कर मारना चाहती है।

मुन्ना बजरंगी ने क्यों दी थी बसपा विधायक को जान से मारने की धमकी

दरअसल 2017 सितंबर में माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी के नाम पर उसके गुर्गों ने बड़ौत के बसपा से पूर्व विधायक लोकेश दीक्षित को वाराणसी में चल रहे उनके एक ठेके के नाम पर उनसे रंगदारी मांगी गई थी और रुपये नहीं देने पर जान से मारने की धमकी भी दी गई है। साथ ही कॉलर ने कहा कि था कि अगर वाराणसी स्टेशन पर ठेका चलाना है, तो झांसी जेल में मुन्ना बजरंगी से मिल लो और यदि स्वयं नहीं जा सकते तो किसी आदमी को भेज दो, क्योंकि वाराणसी में काम करना है तो मैनेज करना ही होगा। कॉलर ने कहा कि यदि जेल में बजरंगी से मिलने नहीं गए और रंगदारी नहीं दी तो जान से हाथ धोना पड़ेगा। विधायक ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए इसकी शिकायत कोतवाली की और धमकी भरा ऑडियो भी पुलिस को सौंप दिया था जिसके बाद मामले में पुलिसक ने मुकदमा दर्ज कर लिया था।

कौन है शार्प-शूटर मुन्ना बजरंगी

मुन्ना बजरंगी का असली नाम प्रेम प्रकाश ¨सह है, उस पर हत्या और अपहरण के दर्जनों मामले दर्ज हैं। मुन्ना बजरंगी 90 के दशक में पूर्वांचल के बाहुबली माफिया और नेता मुख्तार अंसारी के गैंग में शामिल था। कई मामलों में उत्तर प्रदेश पुलिस, एसटीएफ और सीबीआइ को मुन्ना बजरंगी की तलाश थी। उस पर सात लाख रुपये का इनाम भी घोषित था। इस समय वह झांसी जेल में बंद है।

 

रिपोर्ट – साहबदीन यादव, लखनऊ