एटा के शहीद जवान के घर कोहराम, अंतिम संस्कार में नहीं पहुंचा सरकार का कोई प्रतिनिधि

एटा – पाकिस्तान की ओर से किए गए सीज़ फायर उल्लंघन के दौरान बीएसएफ में एसआई पद पर तैनात रजनीश यादव शहीद हो गए। रजनीश यादव जैथरा क्षेत्र में लाल बॉर्डर पर तैनात थे जहां वो दुश्मनों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए। शहीद रजनीश कुमार का पार्थिव शरीर जब उनके पैतृक गांव पहुंचा तो गांव में कोहराम मच गया, शहीद के शव को देखकर परिजन रो-रोकर बेहाल हो गए। शहीद के 3 साल का बेटा दर्श अपने पिता को देखकर रो पड़ा। स्थानीय लोग उनके पार्थिव शरीर को देखकर रजनीश यादव अमर रहे के नारे लगाए।

वहीं शहीद के परिजनों व स्थानीय लोगों में लगातार शहीद हो रहे जवानों को लेकर लोगों में भारी रोष है। परिजनों ने पीएम से सवाल किया कि आप तो एक के बदले दो सिर लाने वाले थे? शहीद के भाई राजीव यादव ने प्रधानमंत्री मोदी पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि वो झूट का ठेकेदार हैं। शहीद के परिवार ने राज्य सरकार पर भी शहीद की अनदेखी का आरोप लगाया की उनके परिवार से सरकार का कोई प्रतिनिधि उनसे मिलने नहीं आया न ही अंतिम संस्कार में शामिल हुआ। एटा के थाना जैथरा के शहीद का उनके पैतृक गांव सदियापुर में हो रहा है अंतिम संस्कार।