बारिश के मौसम में ये सावधानियां बरते गर्भवती महिलाएं

वैसे तो बारिश का इंतजार तो सबको रहता है चाहे प्रकृति हो, इंसान हो या जानवर। भीषण गर्मी से परेशान आम आदमी, प्यास से परेशान जानवर और पेड़ो पर लदे अधपके पक ये सब बेसब्री से बारिश का इंतजार करते हैं लेकिन बारिश का मौसम गर्भवती महिलाओं और उनके पेट में पल रहे बच्चे के लिए थोड़ा कठिन दौर होता है। इस मौसम में प्रेगनेंट महिलाओं द्वारा जरा सी भी लापरवाही उनके अजन्मे बच्चे और उनके के लिए बड़ी परेशानी पैदा कर सकती हैं। यही कारण है इस मौसम में प्रेगनेंट महिलाओं को अपने खान-पान और सफाई का खास ख्याल रखना चाहिए। ऐसे मौसम में इंफेक्शन का खतरा सबसे ज्यादा रहता है और ये मां और बच्चे दोनों को प्रभावित करता है। साथ ही उनके बाहर आने-जाने से भी खतरा ज्यादा रहता है।

 

इस मौसम में बाहर का खाना, खाने से बचें

बारिश का मौसम बीमारियों को आमंत्रित करने का मौसम होता है। इस मौसम में बैक्टीरिया से फैलने वाली बीमारी के होने का खतरा बना रहता है। ऐसे में बाहर का संक्रमित भोजन और पानी का सेवन बिल्कुल न करें। ये आपके और आपके बच्चे की सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है।

पानी को उबालकर पीएं, कीटाणुरहित

बारिश के मौसम में जितना हो सके उबला हुआ पानी पिएं, क्योंकि इस मौसम में पानी आसानी से दूषित हो जाता है। पानी को उबाल लेने से उसमें मौजूद बैक्टीरिया और वायरस नष्ट हो जाते हैं। इसके अलावा अधिक मात्रा में तरल पदार्थ लें।

पत्तेदार सब्जियों और अधपका खाना खाने से बचें

बारिश के दिनों में हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करने से बचें। इसके अलावा खाना बनाते समय अपने बर्तनों और सब्जियों को अच्छे से साफ करें।

साफ-सफाई का खास ख्याल रखें

बारिश के मौसम में पेट की समस्याओं से बचने के लिए अपने हाथों की सफाई का खास ख्याल रखें।

विटामिन सी का इस्तेमाल ज्यादा करें

अपनी डाइट में विटामिन सी से भरपूर पदार्थों को शामिल करें। ये हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का काम करता है। इसके अलावा ये बच्चे की मांसपेशियों के विकास में भी मदद करता है।