पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश के सरकारी बंगले में तोड़फोड़ मामले में राज्य संपत्ति विभाग ने शुरू की जांच

लखनऊ – पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सरकारी बंगले में तोड़फोड़ मामले में राज्य संपत्ति अथिकारी ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के खाली किए गए बंगले में हुई तोड़फोड़ की जांच शुरू कर दी, राज्य संपत्ति अधिकारी योगेश शुक्ला ने बताया कि सभी खाली किए गए बंगलों रिकॉर्ड से मिलान करवाया जाएगा, सभी निर्माण व सामान आदि का ब्यौरा विभाग के पास मौजूद है, यदि यह तथ्य प्रकाश में आया कि तोड़फोड़ जानबूझकर की गई है और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया है तो नोटिस और रिकवरी की कार्रवाई की जाएगी। वहीं जांच कब तक पूरी हो जाने के सवाल पर राज्य संपत्ति अधिकारी ने बताया कि अभी थोड़ा वक्त लगेगा।

गौरतलब है कि कोर्ट के आदेश के बाद 5 जून को अखिलेश यादव ने अपना सरकारी बंगला खाली कर दिया था, बंगला खाली करने के बाद से पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर आरोप लग रहा है कि उन्होंने बंगला खाली करते वक्त इसे बुरी तरह से उजाड़ दिया था। राज्यपाल ने मामले में मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखकर मामले की जांच कराने की बात कही थी। जिसकी जांच राज्य संपत्ति अधिकारियों ने शुरू कर दी है।

वहीं इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा था कि बंगले की चाभी सौंपने के बाद बंगले में तोड़फोड़ हुई। पूर्व मुख्यमंत्री ने सीधा आरोप मुख्यमंत्री के ओएसडी औऱ मुख्यमंत्री के सचिव मृत्युंजय नरायण पर आरोप लगाया कि बंगले की चाभी सौंपने के बाद रात में दोनों अधिकारी पहुंचे थे।