फर्जी RTO की वेबसाइट बनाकर लाखो रुपये का टैक्स हड़पने वाला गैंग सक्रिय

गाजियाबाद फर्जी RTO की वेबसाइट बनाकर लाखो रुपये का टैक्स हड़पने वाला गैंग सक्रिय –

फर्जी तरीके से काटा कर्मशियल वाहनो का टैक्स

NH 24 पर बनाया था फर्जी ऑफिस।
नकली RTO स्टाम्प ओर कागजात, सहित 1 लैपटॉप बरामद।16 हजार रुपये भी बरामद।
OLA कैब्स के कई ड्राइवर थेन पर मौजूद।
1 आरोपी को किया गया गिरफ्तार।
थाना इंदिरापुरम पुलिस ने किया गिरफ्तार।
यदि आपकी गाड़ी कमर्शियल नंबर की है। और आप दिल्ली से उत्तर प्रदेश की सीमा में प्रवेश करते हैं। तो आपके लिए हमारी यह खबर खास खबर साबित हो सकती है। क्योंकि दिल्ली से सटे गाजियाबाद की थाना इंदिरापुरम पुलिस ने एक ऐसे गैंग का खुलासा किया है ।जो भी  कमर्शियल वाहन खासतौर से  पैसेंजर कैब दिल्ली से उत्तर प्रदेश की सीमा में प्रवेश करते थे। तो यह गैंग बॉर्डर पर ही एआरटीओ की फर्जी वेबसाइट बनाकर फर्जी तरीके से टैक्स वसूलते था। जिससे संभागीय परिवहन विभाग को हर महीने लाखों का चूना लगा रहे थे ।पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर इस गैंग के एक सदस्यों को धर दबोचा है। बाकी की तलाश जारी है। इसके कब्जे से पुलिस ने एक लैपटॉप, एक प्रिंटर, ₹16000 की नगदी, 2 a r t o की फर्जी मोहर ,और तमाम फर्जी रसीदों के अलावा एक मोबाइल फोन भी बरामद किया है।
आपको बताते चलें कि दिल्ली से गाजियाबाद आने वाली उत्तर प्रदेश की सीमा में प्रवेश करने वाले कमर्शियल वाहनों खासतौर से पैसेंजर केयर वाहनों से फर्जी तरीके से टैक्स वसूलने का धंधा पिछले काफी समय से बखूबी तरीके से फल-फूल रहा था इस धंधे को चलाने के लिए एक गैंग सक्रिय था जिन्होंने  नेशनल हाईवे 24 पर थाना इंदिरापुरम इलाके में साईं मंदिर के पास अभय खंड स्थित इंडियन ऑयल पंप के पास एक लकड़ी का खोखा रखा हुआ था ।जिसमें लैपटॉप ,प्रिंटर के अलावा संभागीय परिवहन के तमाम फर्जी दस्तावेज मौजूद थे। और यहां मौजूद एक गैंग दिल्ली से उत्तर प्रदेश की सीमा में प्रवेश करने वाले  कमर्शियल वाहन खासतौर से पैसेंजर कैब वाहनों से उत्तर प्रदेश की सीमा में प्रवेश करने वाले टैक्स  को वसूल कर फर्जी तरीके से एआरटीओ की वेबसाइट पर जमा करने के नाम पर फर्जी रसीद दिया करते थे। और यह धंधा पिछले काफी समय से फल-फूल रहा था ।

इस पूरे मामले में एसपी सिटी आकाश तोमर ने बताया कि इंदिरापुरम पुलिस को मुखबिर द्वारा इसकी सूचना मिली जिसके आधार पर पुलिस ने अपना जाल बिछाते हुए संभागीय परिवहन से उनके किसी ऐसे काउंटर खोले जाने की सूचना प्राप्त की लेकिन संभागीय  परिवहन द्वारा पुलिस को पता चला कि इस तरह का उनका कोई भी काउंटर नहीं है। जिसके बाद पुलिस ने गुरुवार को उस जगह छापा मारा जहां पर फर्जी एआरटीओ की वेबसाइट बना कर फर्जी तरीके से पैसेंजर कैब टैक्स वसूला जा रहा था पुलिस ने इस दौरान मौके पर मौजूद मनोज पुत्र रूपचंद निवासी मोटा थाना मुरादनगर को धर दबोचा जिस के कब्जे से पुलिस ने एक लैपटॉप एक प्रिंटर ₹16000 की नगदी और एआरटीओ की दो फर्जी मोहर के अलावा एक मोबाइल फोन और तमाम फर्जी रसीद भी बरामद की है। पुलिस अभी इस पूरे मामले में जुड़े अन्य लोगों के बारे में भी गिरफ्तार किए गए युवक से गहन पूछताछ में जुटी है।
उधर हमने इस की पुष्टि करने के लिए गाजियाबाद के संभागीय परिवहन के एआरटीओ विश्वजीत प्रताप सिंह से भी जानकारी ली तो उन्होंने साफ तौर पर कहा कि संभागीय परिवहन द्वारा ऐसा कोई भी और कहीं भी काउंटर अलग से नहीं बनाया है। जहां पर इस तरह से टैक्स जमा किया जा सके उन्होंने कहा कि ऑनलाइन टैक्स जमा करने की सुविधा सरकार द्वारा केवल इसी लिए ही दी गई है। ताकि लोगों के साथ कहीं किसी तरह का कोई फर्जीवाड़ा ना हो सके।