समाज में दूरी और नफरत फैलाना भाजपा का घोषित एजेंडा – राजेंद्र चौधरी

उत्तराखंड खंड प्रभारी और समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने बुधवार को हरिद्वार में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार की नीतियों से जनता में निराशा का माहौल है, सरकार के पांच बजट के कार्यकाल में जनहित का कोई काम नही हुआ, किसानों का कर्ज इतना बढ़ गया कि अन्नदाता आत्महत्या करने लिए मजबूर है। कॉरपोरेट जगत में लूट खुलेआम हो रही है, रोजगार के अवसर न के बराबर हो रहे हैं, जीएसटी और नोटबन्दी से अर्थव्यवस्था चैपट हो गयी, महंगाई और बेरोजगारी बढ़ती जा रही है। छोटे उद्योग बंद हो रहे हैं, सरकार हर मोर्चे पर विफल हो रही है।


साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में असहमति का कोई सम्मान नही रह गया है, समाज में दूरी और नफरत फैलाना भाजपा का घोषित एजेंडा है। जनता डरी और सहमी हुई है। RSS जनता के द्वारा निर्वाचित सरकार से मनमानी कर रही है, यह रवैया संविधान विरोधी है और प्रधानमंत्री जनता के मुद्दे सुलझाने की जगह उलझा रहे हैं।किसानों की समस्या दूर करने में सरकार की कोई रुचि नहीं रह गई है। चार वर्षों का कार्यकाल सिर्फ हवा-हवाई साबित हो रहा।
राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की चिंता देश में लोकतांत्रिक व्यवस्था को मजबूत करने और हमेशा समाज के वंचित तबके, छात्रों-नौजवानों, किसानों की लड़ाई पूरी ताकत से लड़ते हैं। इसीलिए जनता के बीच उनकी लोकप्रियता लगातार बढ़ रही है।भाजपा सरकारों के पंद्रह वर्षो के कार्यकाल में कोई भी ऐसा विकास कार्य नही हुआ जिसका उदाहरण दिया जा सके। गुजरात में बीस वर्षों के भाजपा शासन में एक एक्सप्रेस वे का निर्माण तक नहीं हो सका जबकि उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव के मुख्यमंत्रित्व काल में बाईस महीने में ही आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे बनकर तैयार हो गया और उस पर आवागमन भी शुरू हो गया।
उत्तराखंड को लेकर राजेंद्र चौधरी ने का की उत्तराखंड में पलायन, कुटीर उद्योगों का संकट, खनन और शराब की समस्या को दूर करने की जिम्मेदारी जनता ने भाजपा को दी थी लेकिन बीजेपी ने जनता के साथ धोखा किया। हालात ये हैं पन्द्रह महीने के कार्यकाल में पलायन सबसे ज्यादा बढ़ा है, कुटीर उद्योग चैपट हो गए, रोजगार खत्म हो गए, शराब और खनन माफिया की अराजकता चरम पर पहुँच गई। हालात ये हो गए कि भाजपा शासन में धार्मिक स्थल भी शराब से अछूते नहीं रह गए।
उत्तराखंड ऊर्जा प्रदेश के रूप में जाना जाता था लेकिन भाजपा की बिजली कटौती की नीति से प्रदेश बदहाल हो रहा है।

यूपी में अखिलेश यादव के कार्यकाल के बखान करते हुए उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव के पांच वर्षों की समाजवादी सरकार में विद्युत उत्पादन को दुगुना करने के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में 20 से 22 घण्टे आपूर्ति की व्यवस्था की गई थी।
2019 लोकसभा चुनाव को देखते हुए राजेन्द्र चौधरी ने कहा ये चुनाव देश की दिशा तय करेगा। जनता बीजेपी को सबक सिखाने के लिए तैयार बैठी है।लोकतंत्र में असली ताकत जनता के पास होती है, भाजपा को अब यह बात समझ लेनी चाहिए।