उन्नाव रेप कांड में गवाह की मौत पर उठे सवाल के बाद अब कब्र से निकालकर कराया जाएगा मृतक का पोस्टमार्टम

उन्‍नाव – चर्चित विधायक द्वारा रेप कांड में मामले में हाल ही में हुए मुख्‍य गवाह यूनुस की मौत पर रेप पीड़िता के चाचा ने हत्या की आशंका जाहिर की। पीड़िता के चाचा ने आरोप लगाया था कि गवाह की मौत के बाद बिना पोस्टमार्टम कराए शव को आनन-फानन में दफना दिया गया था। जिसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी मामले में ट्वीट कर यूपी सरकार को कटघरे में खड़ा किया। मामले को गंभीर होता देख जिला प्रशासन कड़ी सुरक्षा के बीच शव को दोबारा बाहर निकाल कर पोस्‍टमार्टम कराने की तैयारी कर रहा है।

बता दें कि मृतक उन्नाव के चर्चित रेपकांड मामले में पीड़िता की हत्या में सीबीआई का मुख्य गवाह है जिसकी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी, परिवार और जिला प्रशासन ने मौत की वजह गंभीर बिमारी बताई थी, यही कारण है कि परिजन शव को दोबारा नहीं निकलवाना चाहते लेकिन रेप पीड़िता के चाचा के लगातार विरोध और मीडिया में ख़बर चलने के बाद जिला प्रशासन ने मृतक का शव कब्र से निकालकर पोस्टमार्टम कराने जा रही है। मामले की जानकारी होने के बाद गांव में भारी संख्‍या में ग्रामीण इकट्ठा हो गए हैं, मामले की गंभीरता को देखते हुए जिला प्रशासन ने गांव में भारी पुलिस फोर्स तैनात कर दी है।

इस मामले में सीबीआई ने कहा कि गवाहों की सुरक्षा राज्य पुलिस की जिम्मेदारी है और ये केंद्रीय एजेंसी के कार्यक्षेत्र में नहीं आता, उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा सीबीआई के साथ साझा की गई जानकारी के मुताबिक यूनुस नाम का गवाह पिछले कुछ समय से कथित तौर पर बीमार चल रहा था, वो माखी गांव में एक परचून की दुकान चलाता था, पीड़िता और विधायक भी इसी गांव में रहते हैं, उन्होंने बताया कि उसे कुछ दिनों से लीवर संबंधी बीमारी थी और पिछले हफ्ते उसकी मौत हो गई थी।

यूनुस सीबीआई के उस मामले में एक गवाह था जो विधायक अतुल सिंह सेंगर के भाई और चार अन्य द्वारा बलात्कार पीड़िता के पिता की बुरी तरह पिटाई करने से जुड़ा है, इस पिटाई की वजह से पीड़िता के पिता की मौत हो गई थी। बलात्कार पीड़िता के पिता की जेल में मौत हो गई थी जहां उसे आर्म्स एक्ट के कथित झूठे आरोपों के तहत रखा गया था, उन्नाव में सफीपुर के मंडल अधिकारी विवेक रंजन राय ने बताया कि यूनुस की मौत शनिवार को लीवर सिरोसिस की वजह से हुई थी।