मेरठ में दरोगा की गर्ल फ्रेंड

यूपी ,मेरठ में पुलिस के एक दारोगा की गर्लफ्रैंड अपने पड़ौसियों के लिए आफत बन गयी है। पड़ौसियों को सबक सिखाने के लिए दारोगा की गर्लफ्रैंड पहले भी उन्हें एक बार जेल की हवा खिला चुकी है। अपने आशिक दारोगा पर हुई सस्पैंशन की कार्रवाई के बाद उसकी गर्लफ्रैंड ने एक बार फिर से मोर्चा सँभाल लिया है।

पहले तस्वीर देखिये और फिर वीडियो…मेरठ एसएसपी की चौखट पर अपने लिव-इन बॉयफ्रैंड के लिए पैरोकारी करने पहुँची इस लड़की का नाम है…तैय्ब्बा। तैय्ब्बा मेरठ के किठौर में रहती थी…और किठौर थाने में ही तैनात था दारोगा नरेन्द्र। अपने पड़ौसी के खिलाफ की गयी शिकायत की जॉच के संबध में तैय्ब्बा नरेन्द्र से क्या मिली…उसी की होकर रह गयी। फ्रैंडशिप फेवीकोल के जोड़ से भी ज्यादा अटूट हो गयी। फिर क्या था…झूठी शिकायत पर पड़ौसी जेल भेज दिये गये। जेल गये बेगुनाहों के परिजन जब तैय्ब्बा और नरेन्द्र की आपत्तिजनक तस्वीरों के साथ एसएसपी से मिले तो नरेन्द्र को सस्पैंड कर दिया गया। 
अपनी बेटी की हरकतों की वजह से समाज में नीचा देखने वाले परिवार ने तैय्ब्बा को घर और जायदाद से बेदखल कर दिया…तो तैय्ब्बा नरेन्द्र के घर में उसके साथ रहने लगी। मगर जब पड़ौसियों की शिकायत पर नरेन्द्र का निलंबन हुआ तो उसने फिर से पड़ौसियों को सबक सिखाने की ठान ली। तैय्ब्बा अब फिर से एक झूठी कहानी की शिकायत लेकर पुलिस अफसरों की चौखट पर है। मकसद है अपने आशिक नरेन्द्र को पुलिस की विभागीय जॉच से बचाना। उधर….तैय्ब्बा ने जिन पड़ौसियों के खिलाफ मोर्चा खोला है…उनकी जान आफत में है। पहले बेटो को फर्जी मुकदमें में दारोगा की मदद से जेल भिजवाया और अब न जाने क्या कर दे। 

अब तक की विभागीय जॉच में यह पाया गया है कि दारोगा नरेन्द्र ने अपनी आशिक मिजाजी के चलते करीब 60 मुकदमों की विवेचना भी ठंडे बस्ते में डाल रखी थी। एसएसपी ने सस्पैंशन के बाद उसके खिलाफ विभागीय जॉच भी शुरू कराई है। लेकिन सवाल यह है कि दारोगा की शिकायत के बाद उसके खिलाफ हुई कार्रवाई के बाद तैय्ब्बा की हमलों से इस परिवार को कौन बचायेगा।